0

रमजान का महीना (The month of Ramadan)

Download article as PDF रमजान का महीना (ramzaan ka maheena)- (The month of Ramadan) Word List: 1. रमजान(ramzaan)-Ramadan 2. उपवास(Upvas)-Fasting 3. गर्भवती(Garbhvati)- Pregnant 4. आत्मानुशासन(Antanushasan) –self discipline 5. दौरान(Dauran) -During 6. […]
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.20 out of 5)
Loading...Loading...

रमजान का महीना (ramzaan ka maheena)- (The month of Ramadan)
Word List:
1. रमजान(ramzaan)-Ramadan
2. उपवास(Upvas)-Fasting
3. गर्भवती(Garbhvati)- Pregnant
4. आत्मानुशासन(Antanushasan) –self discipline
5. दौरान(Dauran) -During
6. प्रकार(Prakar) -Type
7. प्रशिक्षण(Prashikshan) -Training
8. पवित्रता(Pavitrata)-Purity
9. खुद-ब-खुद(Khud-ba-khud)- Themselves (on their own)
10. महत्व(Mahatwa)- Importance
11. सिर्फ(Sirf) – Only
12. गलत(Galat) – Wrong
13. दिन भर(Din bhar) – the whole day
14. स्वस्थ्य(Swasth)- Healthy
15. बुजुर्ग (Boosoorg) – Aged

Expression:
कुरान के अनुसार उपवास के दो उद्देश्य हैं
Kuraan ke anusaar upvas ke do uddeshya hain
According to Quraan ,there are two objectives of this fasting.

Article:

रमजान का महीना (Ramzaan ka maheena)- The month of Ramadan

इस्लामी चाँद कैलेंडर के नौवें महीने रमजान के दौरान उपवास इस्लाम के पाँच खंबों में से एक है। इस्लाम धर्म को मानने वाले हर वयस्क और स्वस्थ्य स्त्री-पुरुष के लिए रमजान के दौरान उपवास रखना जरूरी है। लेकिन अस्वस्थ, बुजुर्ग लोगों, गर्भवती और सेवा-सुश्रुषा में लगी महिलाओं के लिए इससे छूट है। इसी तरह पर्यटकों के लिए भी छूट दी गई है।

During Ramadan,the ninth month of the Islamic lunar calendar, fasting is one of the five pillars of Islam. For all Islam Adherents, every adult – healthy men and women fasting during Ramadan is essential. But unhealthy, elderly people, pregnant and nursing women are allowed to skip it. Similar concessions have been granted to tourists.

उपवास वास्तव में आत्मानुशासन का एक क्रैस कोर्स है। इस दौरान मुसलमानों को रमजान के दौरान एक प्रकार का प्रशिक्षण दिया जाता । कुरान के अनुसार उपवास के दो उद्देश्य हैं- जीवन में सावधान रहना और अल्लाह के प्रति शुक्रगुजार होना।

Actually fasting is a crash course of self-control/ Self-discipline. The Muslims during Ramadan are given a type of training. According to the Quran, there are two objectives of the Ramadan fasting- one – be careful in life and another is to be thankful to God/the supreme power.

रमजान के दौरान जब मुसलमान रोजा रखते हैं तो अपने कार्यों में काफी पवित्रता बरतते हैं और हर काम में कुछ खास हो जाते हैं। कब खाना है, कब नहीं खाना है या क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए आदि बातों की परवाह रखते हैं। इसके अलावा वे इबादत पर ज्यादा समय गुजारते हैं। इसी तरह कुरान ज्यादा पढ़ते हैं और गरीबों को ज्यादा देते हैं। इस तरह की चेतना और आत्मानुशासन के साथ पूरी जिंदगी जीने के लिए वे तैयार हो जाते हैं। उपवास उसी का प्रशिक्षण है।

During Ramadan when Muslims keep Rosa, every action should be taken in a considerable pure way and everything become special. When to eat, when not to eat and what should or should not do, things are important. They also spend more time on prayer. Similarly, read the Quran more and give more to the poor. They are almost ready to lead their whole life with this kind of self-discipline. Fasting is the part of the same training.

रमजान के दौरान दिन भर उपवास करने के बाद जब शाम को इस्लाम को मानने वाले लोग रोजा तोड़ते हैं, तब उन्हें भोजन-पानी का महत्व मालूम होता है। ऐसे में अल्लाह के प्रति वे खुद-ब-खुद शुक्रगुजार हो जाते हैं। जो रोजा रखते हैं लेकिन गलत काम करते हैं वे रमजान के दौरान रोजा रखने का महत्व नहीं समझते। जाहिर है कि उनका संबंध सिर्फ रोजा के बाहरी यथार्थ से है।

During Ramadan after fasting the whole day when Islam believers break Rosa in the evening then they realize the importance of food and water. Automatically they became thankful to Allah themselves. The people keep Rosa but involved in sins, they don’t understand the actual meaning of rosa. Apparently they are just following the external rules of Rosa only.

 

 


आशा करती हूँ के आपको यह पाठ अच्छा लगा ….(I hope you have enjoyed the lesson.)

सुस्मिता …(Susmita)

You can contact me for Hindi ,Bengali, and Indian Music classes.. at Talkingbees.com

I am available to teach you online on skype(talkingbees). Now I am in New York,so If you would like to learn Hindi/Bengali language/Hindustani music face to face in NY contact me soon.